आँखें- Nimish

तुम्हें पता , माँ कहतीं हैं !! स्त्रियाँ , पुरुषों की आँखों में , अपनी एक नज़र मात्र से भांप लेती हैं ; पुरुष-मन में खुद के लिए छिपा , प्रेम इज़्ज़त द्वेष या हवस ; और शायद इसीलिए , मै उत्सुक़ हूं …यह जानने वश , मेरी प्रिय , तुमने मेरी आँखों में क्या पाया ?? —Nimish  Words mean nothing, unless the eyesContinue reading “आँखें- Nimish”

Jasmine and you – Dr. Nimish

a sincere floret. Her beauty behind the madness, accompanied by an exquisite fragrance, sometimes I miss her so much, that I can clearly smell herin the air, And there I found her,In my lawn Right in front of my balcony,near Jasmine plant . “Let me hug you tightlyLet me kiss you longly” They just dreams, turn ’em to reality,Continue reading “Jasmine and you – Dr. Nimish”